धमनीविस्फार क्या है: कारण लक्षण और उपचार Aneurism meaning in Hindi, Electro homeopathy treatmet of Aneurism

धमनीविस्फार क्या है: कारण लक्षण और उपचार Aneurism meaning in Hindi, Electro homeopathy treatmet of Aneurism

धमनीविस्फार क्या है: कारण लक्षण और उपचार Aneurism meaning in Hindi, Electro homeopathy treatmet of Aneurism

नमस्कार दोस्तों आपके सामने हाजिर है फिर से एक ज्ञानवर्धक पोस्ट को लेकर आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम जानेंगे धमनीविस्फार के बारे में धमनीविस्फार क्या होता है इसके क्या कारण है। इसका Eelctro homeopathic Treatment of Aneurism in Hindi में विस्तार से जानेंगे।

हमारे शरीर में रक्त को  फिल्टर करने का कार्य ह्रदय निरंतर रूप से  करता रहता है और फिल्टर के बाद रक्त हमारे शरीर के विभिन्न हिस्सों में या की कहें पूरे शरीर में फैली धमनियों के माध्यम से एक स्थान से दूसरे स्थान तक निरंतर संचारित होता रहता है और कभी कभी हमारी यह धमनियां किन्ही कारणों से कमजोर हो जाती हैं। जिस स्थान की धमनी कमजोर होती है वहां पर रक्त का दबाव पड़ने पर वह उस जगह की धमनी फूलने लगती है जो कि एक बहुत ही जटिल स्थित होती है।

जिस कारण से उस हिस्से में सूजन हो जाती है और एक असहनीय पीड़ा होती है शुरुआत में जब धमनियों में इस प्रकार की कोई कमजोरी आती है तो इसके लक्षण हमें दिखाई नहीं पड़ते हैं अतः ऐसे समय में हमें पता ही नहीं चलता कि हमारी धमनियों में किसी भी प्रकार की समस्या है लेकिन जब हल्के से दर्द को या सूजन को हम अनदेखा कर देते हैं तो यही समस्या आने वाले समय में गंभीर स्थिति बना देती है और ऐसी स्थिति में प्रभावित स्थान की धमनी अधिक फूल जाने के कारण फट भी सकती है।
महिलाओं की अपेक्षा यह समस्या पुरुषों में ज्यादा देखने में आती है इस समस्या को हिंदी भाषा में धमनीविस्फार कहते हैं और मॉडर्न साइंस में एन्यूरिज्म (Aneurism) के नाम से जाना जाता है।

यह भी पढ़ें : Electro Homeopathy treatment of Piles
यह भी पढ़ें : Electro Homeopathy treatment of urticaria


ऐसी गंभीर स्थिति आने के बाद लगभग 99% लोगों की मौत हो जाती है अतः इसके साधारण से लक्षण का आभास होते ही हमें चिकित्सीय परामर्श के साथ इलाज लेना चाहिए। बेहतर यही होगा कि आप सामान्य स्थिति में ही इस समस्या के लिए किसी इलेक्ट्रो होम्योपैथी के अनुभवी चिकित्सक की सलाह के साथ में इसका उपचार कराएं।

इलेक्ट्रो होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति एक इटालियन हर्बल चिकित्सा पद्धति है जिसकी औषधियों का निर्माण वनस्पति जगत से प्राप्त विशेष लाभकारी पेड़ पौधों से विशेष प्रकार की विधि से तैयार किए गए अर्क Electro homeopathic medicine के द्वारा चिकित्सा की जाती है। इलेक्ट्रो होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति एक ऐसा आधुनिक चिकत्सा विज्ञान है। जिसमें आज के समय में कैंसर तक की चिकित्सा संभव हुई है और सैकड़ों लोग इसका भरपूर लाभ ले रहे हैं इसलिए हम सभी को इलेक्ट्रो होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति की हर्बल औषधियों का लाभ अवश्य लेना चाहिए इलेक्ट्रो होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति की औषधियां हानरहित और प्रभावी है।


धमनीविस्फार  का वर्गी करण Types of Aneurism

एन्यूरिज्म या धमनीविस्फार की समस्या मुख्य रूप से हमारे मस्तिष्क में, हृदय तक रक्त को पहुंचाने वाली धमनियों में, पैरों में तथा महाधमनी में होता है लेकिन यह निश्चित नहीं है कि केवल इन्हीं हिस्सों की धमनियों में यह समस्या होगी अन्य स्थान की धमनियों में भी यह समस्या हो सकती है। 

एन्यूरिज्म Aneurism धमनीविस्फार की इस समस्या में धमनियों के जिस स्थान पर क्षति हो जाती है या जिस स्थान की धमनी कमजोर हो जाती है उस स्थान से आंतरिक रक्तस्त्राव का खतरा बढ़ जाता है और कई बार यह धमनियां फट भी जाती है। जो कि एक बहुत ही गंभीर स्थिति है बिना सर्जरी के इसका कंट्रोल करना संभव नहीं है। आज से कुछ समय पहले तक मॉडर्न साइंस में इसका उपचार बहुत ही जटिल था क्योंकि यह समस्या आने पर या धमनी के फटने पर पूरे पेट के हिस्से को खोलकर सर्जरी की जाती थी जिसके कारण से इंफेक्शन का खतरा अत्यंत अधिक रहता था। 

लेकिन आज के समय में उसका ऑपरेशन शरीर में छोटे से कट लगाने के बाद भी हो जाता है। और प्रभावित हिस्से की धमनी के चारों ओर कृत्रिम आवरण लगा दिया जाता है। जिससे  धमनी के फटने का खतरा समाप्त हो जाता है लेकिन बेहतर यही है कि हम अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखें और स्थित को इतना बिगड़ने ना दें कि हमें किसी सर्जरी का सहारा लेना पड़े।

यह भी पढ़ें : Electro Homeopathy treatment of Otorrhea
यह भी पढ़ें : 
Electro Homeopathy treatment of Candidiatis

अगर शरीर के विभिन्न अंगों में प्रभाव छोड़ने वाली इस समस्या का वर्गीकरण किया जाए तो इसके निम्न प्रकार हो सकते हैं।

मस्तिष्क धमनीविस्फार 

महाधमनी धमनीविस्फार 

स्प्लेनिक आर्टरी धमनीविस्फार 

पोपीलिटीएल धमनीविस्फार 

मेनसेंटरिक आर्टरी धमनीविस्फार 

आंत का धमनीविस्फा

कैरोटिड आर्टरी धमनीविस्फार 

धमनीविस्फार के क्या क्या लक्षण Symptoms of Aneurism

धमनीविस्फार की समस्या में प्रभावित व्यक्ति के शरीर में अलग-अलग लक्षण दिखाई पड़ सकते हैं धमनीविस्फार की शुरुआत में कोई भी लक्षण दिखाई नहीं देता पर जैसे-जैसे यह समस्या बढ़ जाती है और धमनी ज्यादा कमजोर हो जाती है तो अगर धमनी शरीर की त्वचा के करीब में होती है तो वहां पर सूजन व दर्द के लक्षण जल्द ही दिखाई दे सकते हैं।

धमनीविस्फार की गंभीर स्थिति में अगर समय पर इलाज नहीं किया जाता है तो रोगी की मृत्यु भी हो सकती है कुछ लक्षण निम्नलिखित हैं।

प्रभावित अंग में अचानक से गंभीर दर्द 

आंखों से धुंधला दिखाई देना या दोहरा दिखाई देना 

बेहोश हो जाना

उलझन महसूस होना 

खून का रिसाव होना 

मितली उल्टी होना

धमनीविस्फार के कारण Causes of Aneurism

एन्यूरिज्म या धमनीविस्फार एक ऐसी समस्या है जिसका कारण अभी तक अज्ञात है कई विशेषज्ञों का मानना है कि हमारे शरीर की कोशिकाओं में किसी प्रकार से हुई क्षति के कारण एन्यूरिज्म या धमनीविस्फार की समस्या हो सकती है या धमनियों पर फैट के जमा होने के कारण भी धमनियों को नुकसान पहुंचता है
ऐसी स्थिति में रक्त का संचार करने के लिए हृदय को अधिक गति से पंप करना पड़ता है जिसके कारण धमनियों में दबाव बढ़ जाता है इस बढ़े हुए दबाव के कारण धमनियों को नुकसान पहुंचता है।

अन्य कारणों में धमनियों कि इस समस्या हाई ब्लड प्रेशर,  एथेरोस्क्लेरोसिस रोग की वजह से भी हो सकती है

धमनीविस्फार को काबू में कैसे करें

बिगड़ी हुई जीवनशैली में सुधार करना एन्यूरिज्म या धमनीविस्फार की समस्या में कमी ला सकता है। 
धूम्रपान करना धमनीविस्फार के जोखिम का एक प्रमुख कारण माना जाता है अतः धूम्रपान का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए
खानपान मैं सुधार लाकर पौष्टिक आहार का सेवन नियमित करना चाहिए।

धमनीविस्फार के जोखिम

बिगड़ी हुई जीवनशैली इस समस्या को बढ़ा सकती है।

मोटापा 

पौष्टिक आहार सेवन में कमी

धूम्रपान करना 

हाइपरटेंशन या उच्च रक्तचाप 

धमनीविस्फार का निदान Diagnosis of Aneurism

धमनीविस्फार एक ऐसी समस्या है जो शरीर के विभिन्न हिस्सो में हो सकती है क्योंकि हमारे पूरे शरीर में रक्त का संचालन धमनियों के माध्यम से होता है अतः शरीर के किसी भी भाग की धमनियों में यह समस्या हो सकती है। अधिकांश मामलों में मस्तिष्क पैरों और महाधमनी में ही या समस्या देखी जाती है। लेकिन अन्य स्थानों पर भी यह समस्या होने की संभावना बनी रहती है। इस समस्या के निदान के लिए 

कंप्यूटेड टोमोग्राफी CT स्कैन,  

कंप्यूटेड टोमोग्राफी 

एंजियोग्राम सीटी स्कैन, 

सेरेब्रल एंजियोग्राफी, 

मैग्नेटिक रिजोनेंस ऐंजियोग्राफी आदि की मदद से इसकी पहचान की जा सकती है।

धमनीविस्फार में इलेक्ट्रो होम्योपैथी चिकित्सा
नमस्कार इलेक्ट्रो होम्योपैथी के इस मंच में आप सभी का स्वागत है। अस्वीकरण: इस साइट पर उपलब्ध सभी इलेक्ट्रो-होम्योपैथी, आयुर्वेद, होम्योपैथी संबंधी जानकारी और लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। कि…

Post a Comment

Please donot enter any spam link in the comment box.