Header Ads

औषधि निर्माण में प्रयोग होने वाले कुछ शब्द

(1) अणु Molecule 
       ---------------------- किसी तत्व का वह सूक्ष्म कण  जो रासायनिक अभिक्रिया में भाग नहीं लेता तथा स्वतंत्र अवस्था मे रह सकता है अणु कहलाता है।


(2) परमाणु Atom 
      --------------–--- किसी तत्व का वह सूक्ष्म कण जो रासायनिक अभिक्रिया में भाग लेता है परंतु स्वतंत्र अवस्था में नहीं रह सकता है । परमाणु कहलाता है।

(3) इलेक्ट्रॉन Electron 
       ------------------------परमाणु का वह अनिवार्य घटक जिस पर इकाई ऋणात्मक विद्युत आवेश होता है । इलेक्ट्रॉन कहलाता है।

(4) प्रोटॉन Proton 
     --------------------परमाणु का वह अनिवार्य घटक जिस पर धनात्मक विद्युत आवेश होता है प्रोटोन कहलाता है।

(5) न्यूट्रान
      --------परमाणु का वह उदासीन घटक  जिस पर किसी तरह का आवेश नहीं होता है न्यूट्रॉन कहलाता है।

 (6) विलयन Solution
       ------------------------जब कोई ठोस किसी द्रव में मिलाया जाता है तो जो घोल बनता है उसे विलियन कहते हैं।

(7) संतृप्त विलयन Saturated solution
      ------------------------------------------------- जब किसी ठोस को किसी द्रव में मिलाया जाता है तो ठोस द्रव में मिलता जाता है लेकिन एक सीमा ऐसी आती है जब ठोस द्रव में नहीं घुलता है । तब उस घोल को संतृप्त विलियन कहते हैं।

(8) असंतृप्त विलयन Unsaturated solution
      -----------------------------------------------------
                 असंतृप्त ए विलियन उस घोल को कहते हैं जिसमें उस ताप पर अधिक ठोस न घोला जा सके जिस पर पहले घोला जा रहा था ।
         ताप के घटने बढ़ने से घुलनशील घटती बढ़ती है।

(9) ऊर्जा Energy
     ------------------ यह वह शक्ति है जिसमें न तो भार होता है और न स्थान घेरती है। इसका केवल अनुभव किया जा सकता है।

(10) इले0 हो0 पै0 औषधि शक्ति Potency
        --------------------------------------------------
            औषधि  की उस गतिशील सामर्थ्य को जो अस्वस्थ प्राणी की जीवनीय शक्ति को प्रभावित कर दे पोटेंसी कहलाती है।

(11) शक्ति करण Potentization
       --------------------------------------
         इलेक्ट्रो होम्योपैथी में शक्ति सरल उस विशिष्ट प्रक्रिया को कहते हैं जिसके द्वारा डायलूट स्पेजिरिक एसेंस तथा डायलूशन में छुपी हुई Curative medical Pawer को जागृत किया जाय।

(12) तनु कारण Dilution
       ---------------------------- स्पेजिरिक एसेंस  या किसी औषधि की सांद्रता (Concentration) को किसी उपयुक्त घोलक द्वारा  कम करने की प्रक्रिया को डायलूशन (तनु करण)  कहते हैं।

(13) आंदोलन Succussion
         ------------------------------ स्पेजिरिक या मेडिसिन की डायनेमिक मेडिकल प्रॉपर्टी को जगृति के लिए , पहले उसका तनु घोल तैयार किया जाता है । इसके बाद इस घोल में झिटके (Stock) लगाए जाते हैं इस प्रकार स्टोक मारने की इस क्रिया को आंदोलन कहते हैं ।

No comments

Please donot enter any spam link in the comment box.

Powered by Blogger.